पृष्ठ

शुक्रवार, 29 अगस्त 2014

अक्ल पर बर्फ़ पड़ना !

दुनिया भर के लोगों द्वारा खुद के ऊपर बाल्टी भर बर्फ उड़ेलने की खबरें आ रही हैं।यह काम छोटे-मोटे लोग करते तो हाशिये की खबर भी न बन पाती पर जब पहले और तीसरे पेज के लोगों ने इस काम को अपने हाथ में ले लिया तो आज की सबसे बड़ी खबर यही है।कई अभिनेता और नेता इस पुनीत कार्य में बाल्टी उड़ेल के पीछे पड़ गए हैं।कहा जा रहा है कि अपने ऊपर बाल्टी भर बर्फ उड़ेल लेने से अनाम-सी बीमारी से निपटने में भरपूर मदद मिल रही है । जो सेलेब्रिटी अपने ऊपर बर्फ़ उड़ेलता है,वह अपने जैसे ही कद और पद वाले सेलेब्रिटी को चैलेन्ज पास कर देता है।इस अनुष्ठान में वह या तो बाल्टी भर बर्फ का जुगाड़ कर अपने सर के ऊपर डालने की जहमत करे,नहीं तो उस बीमारी के नाम दान कर दे।अब सीधे-सीधे दान करने की बात होती तो उस बीमारी से लड़ने को पैसे तो दूर पब्लिसिटी का एक कोना तक नसीब न होता ।इसलिए यह जिसका भी आईडिया है,बड़ा झकास है।

दुनिया से ,खासकर अमेरिका से हम भारतीय अकसर प्रेरणा लेते रहते हैं।इस मामले में हमारे खिलाड़ियों और बॉलीवुड कलाकारों का जवाब नहीं।देखते ही देखते ,बर्फ़ से नहाई उनकी तस्वीरों से टीवी और अख़बार पटने लगे हैं।जिन लोगों को साल दो साल से घर में ठीक से नहाने का टाइम नहीं मिला होगा ,उन्होंने भी बड़ी तबियत से इस काम को अपने हाथ में ले लिया है ।नहाने में भले कुछ समय लगता हो,पर मीडिया को न्योतने में तनिक भी देरी नहीं होती ।आखिर सोशल-कॉज का मसला जो ठहरा।हमारे सेलेब्रिटीज दूसरे कामों में भले पीछे हो जाँय,सोशल-कॉज में कभी नहीं पिछड़ते। उनके सामाजिक योगदान फेसबुक और ट्विटर पर धमाल मचा देते हैं।देखिए, सोशल कॉज की खातिर ही हमारे प्यारे अभिनेता पिछले दिनों वस्त्रहीन हो गए थे।वह तो मुए ट्रांजिस्टर ने बीच में अड़ंगा डाल दिया था नहीं तो वे समाज-सुधार का अंतिम चरण पूरा करके ही दम लेते।

इधर सुनते हैं कि हमारे कुछ नेताओं ने भी चुपचाप बाल्टी भर बर्फ़ से स्नान कर लिया है।इसका पता तब चला जब एक योग्य मंत्री ने बयान दिया कि हमारे देश में बलात्कार की एक ‘छोटी घटना’ से देश का पर्यटन प्रभावित हुआ है।उनके इस आत्म-ज्ञान से जब हल्ला मचने लगा तो जानकारों ने निष्कर्ष निकाला कि हो सकता है बाल्टी में बर्फ की मात्रा अधिक रही हो,जिसका सीधा असर उनके दिमाग पर पड़ गया हो।अब ऐसे ठंडे हो चुके दिमाग से इतना कुछ निकल आना क्या कम है ?

अभिनेताओं,खिलाड़ियों और नेताओं के इस अभियान में शामिल हो जाने के बाद आम आदमी भी पीछे नहीं है।उसने आइस बकेट का जवाब राइस बकेट से देना शुरू कर दिया है।यह पश्चिमी देशों को दिया गया देशी मुँहतोड़ जवाब है।उसने राइस का आइस के साथ पूरी तरह रिदम मिला लिया है।बॉलीवुड ने पहले ही धुनों का हूबहू मिलान करने में ख़ास शोहरत पाई है।आइस के बदले राइस की प्रेरणा वहीँ से आई हो सकती है।राइस बकेट शुरू करने का दूसरा कारण यह भी है कि आम आदमी अभी पानी की ही जुगाड़ में लगा है, बर्फ कहाँ से लाए ?ऐसे में बर्फ का आइडिया उसे व्यावहारिक नहीं लगा क्योंकि उसे लगता है कि अक्ल पर बर्फ नहीं सिर्फ पत्थर पड़ते हैं.

फ़िलहाल,उस बीमारी का क्या हाल है,कुछ पता नहीं चल पा रहा है। हाँ,आये दिन बर्फ से नहाते हुए सेलेब्रिटीज की फोटू देखकर कलेजे को ठंडक ज़रूर मिल जाती है।उनकी फ़िल्में भी सिनेमाघरों में एक-दो दिन और घिसट जाती हैं।आम आदमी ‘राइस बकेट’ से स्नान तो नहीं कर सकता है पर ‘दान-पुन्न‘ करते हुए उसकी तस्वीरें ज़रूर खिंचाई जा सकती हैं।ऐसे में फोटू का जवाब फोटू से देने का पवित्र कर्म भी पूरा हो जाता है।इससे साबित होता है कि मूर्खता या नकलबाज़ी करने में किसी एक का कॉपीराइट नहीं है ।

   

6 टिप्‍पणियां:

Yashwant Yash ने कहा…

कल 30/अगस्त/2014 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
धन्यवाद !

निहार रंजन ने कहा…

राइस बकेट वाकई मुंहतोड़ जवाब है. देखते हैं कितने अभिनेता, अभिनेत्री इसमें सामने आते हैं.

सु..मन(Suman Kapoor) ने कहा…

बढ़िया लेख

Onkar ने कहा…

सुंदर पोस्ट

Onkar ने कहा…

सुंदर पोस्ट

Lekhika 'Pari M Shlok' ने कहा…

sunder rachna