पृष्ठ

बुधवार, 12 नवंबर 2014

मंत्रिमण्डल का अपडेट वर्ज़न !

लो जी ,केन्द्रीय मंत्रिमंडल का अपडेट वर्जन भी आ गया।आधुनिक समय में लगातार अपडेट रहना अब नितांत आवश्यक है।इसके बिना कोई भी तकनीक या कम्पनी अधिक दिनों तक टिकी नहीं रह सकती।नोकिया का उदाहरण हमारे सामने है।उसने बाज़ार की ज़रूरतों के मुताबिक अपना बदलाव नहीं किया और आखिर में बिक गई।वहीँ गूगल को देखिए,हर छह महीने में एंड्रॉइड के नए वर्ज़न लाकर वह बाज़ार का सिरमौर बन बैठा है।उसका लेटेस्ट वर्ज़न लॉलीपॉप आ गया है।इसी तरह सरकारों को भी हर छह महीने में नए-नए लॉलीपॉप-वर्ज़न लाते रहने चाहिए।इससे पकड़ मज़बूत बनी रहती है और भविष्य भी सुरक्षित रहता है।

नए वर्ज़न में समाज और क्षेत्र के हर तबके का ध्यान दिया गया है।जो दूसरे दलों में रहते हुए देश-सेवा नहीं कर पाए थे,उन्हें भी मौक़ा दिया गया है।इस चाल से दो शिकार किए गए हैं।एक तो इनके आने से अपना जनाधार मज़बूत होगा और ऐसे नेताओं को कुर्सी पर बिठाकर उनके पूर्व-आकाओं को अच्छे से टिलीलिली की जा सकती है।इधर ये शपथ-ग्रहण कर रहे थे,उधर उनके कलेजे में साँप लोट रहे थे।शपथ लेने वालों को पहली बार व्यक्तिनिष्ठा और सत्यनिष्ठा में अंतर साफ़ समझ में आ गया होगा।

इधर शपथ दिलाई जा रही थी,उधर खबर आ रही थी कि एक नेता को एयरपोर्ट पर ही रोक लिया गया है।वे बेचारे देश-सेवा की शपथ लेने को कसमसाए जा रहे थे पर उन्हें वहां से बाहर नहीं निकलने दिया गया।गोया उनके शपथ लेते ही देश का बड़ा नुकसान हो जाएगा।बुरा हो मोबाइल के आविष्कार करने वाले का,अगर आज यह न होता,वे कब के समारोह में पहुँच चुके होते।उनका नया कुरता और जैकेट कंधे के बजाय खुद को खूँटी पर टंगा महसूस कर रहे थे।ऐसे उत्सवी माहौल में इस मनहूसियत भरे कदम की अपेक्षा कौन कर सकता है ? प्रभु,उन्हें यह अनहोनी सहने की क्षमता प्रदान करें।

शपथ-ग्रहण समारोह में राज्य मंत्री बनाए गए कई लोगों ने कैबिनेट या स्वतंत्र प्रभार न पाकर भी हिम्मत नहीं हारी।उन्होंने शपथ के दौरान अपने नाम से पहले प्रोफेसर,डॉक्टर या कर्नल लगाकर यह संकेत दे दिया कि उन्हें हल्के में न लिया जाय।भले ही वे राज्य मंत्री बने हों,पर वे सुपरहिट प्लेयर साबित होंगे।वो ये जानते हैं कि उन्हें उनके परिवार या उनके बयान के आधार पर नहीं बल्कि उनमें मौजूद देश-सेवा के हुनर को पहचान कर उन्हें जिम्मेदारी सौंपी गई है।जो लोग फ़िर भी वंचित रह गए हैं,वे अगले वर्ज़न में अपडेट किए जा सकते हैं।

खादी के कलफ़ लगे जिन कुरतों और जैकेटों की शान बढ़ी,उन्हें दिली-मुबारक और जो किसी कारणवश खूँटी में टंगे रह गए हैं,उनके लिए शुभकामनाएँ कि ईश्वर उन्हें भी अगले वर्ज़न में अपने हिस्से का लॉलीपॉप ग्रहण करने की क्षमता प्रदान करे।

कोई टिप्पणी नहीं: