पृष्ठ

शुक्रवार, 27 जून 2014

कुत्ते और आदमी में फर्क !


कुत्ते और आदमी का सम्बन्ध बहुत पुराना है।यह बहस का विषय हो सकता है कि कुत्ते ने आदमी का फ़ायदा उठाया या आदमी ने कुत्ते का, पर इतना तो तय है कि वफ़ादारी का पैमाना जब नापा जाता है तो मिसाल कुत्ते की ही दी जाती है।कुत्ते और आदमी के सम्बन्धों में यहाँ कुत्ते ने ही बाजी मारी, फिर क्या वजह है कि आदमी की औकात को घटाने के समय उसकी तुलना बेचारे कुत्ते से ही की जाती है।यह कुत्ते का बड़प्पन है कि वह आदमी के दुःख-सुख में तो काम आता ही है,उसके नीच कर्मों को भी वह अपने नाम ढोता है।

आदमी की तरह कुत्तों की भी कई किस्में हैं।जहाँ कुछ कुत्ते गली-गली मारे फिरते हैं,वहीँ कई कुत्ते आलीशान महलों में अय्याशी कर रहे हैं।इसके बावजूद कुत्तों में वफ़ादारी की एक-सी रेन्ज है।गली का कुत्ता कितना भी गलीच क्यों न हो,एक बार रोटी देने वाले का उपकार नहीं भूलता।ऐसे ही व्यवहार संभ्रांत किस्म के कुत्ते करते हैं।देश की राजधानी दिल्ली में हालिया घटी एक घटना है जिसने आदमी और कुत्ते के व्यवहार को सही-सही रेखांकित कर दिया है।राजधानी के पाश इलाके में एक अधिकारी के यहाँ ज़र्मन शेफर्ड कुत्ता अपने मालिक की खूब वफ़ादारी से सेवा कर रहा था।पास में ही एक धोबी था,जिसका उस घर में नियमित आना-जाना था।इस तरह उस कुत्ते से इस आदमी की भी दोस्ती हो गई।वे दोनों खूब हिल-मिल गए थे।

धोबी से दोस्ती करके कुत्ता उसकी तरफ से निश्चिन्त हो गया।इस बात का फायदा उठाकर उस आदमी ने एक रात उस घर से नकदी साफ़ कर दी।कुत्ता कुछ नहीं बोला क्योंकि वह समझता था कि उसने आदमी से दोस्ती की है।इस घटना का खुलासा होने पर पता चला कि कुत्ता तो आदमी का वफादार निकला मगर आदमी नहीं।कहने को तो आदमी ने कुत्ते जैसी हरकत की,पर यह कथन कहाँ तक सही है ?बेचारे कुत्ते ने उसे आदमी समझा,मगर आदमी ने बता दिया कि वह उससे भी गया-गुजरा है।

इससे साफ़ है कि आदमी के बारे में कुत्तों की सोच गलत साबित हुई।कुत्ते को प्रशिक्षण देकर कितना भी उन्नत बना दिया जाय,मगर वो रहेगा आदमी से पीछे ही।आदमी को यूँ ही चतुर नहीं कहा गया है।वह अपने कई गुणों को कुत्ते में समाविष्ट कर सकता है पर अपना मौलिक हुनर कभी नहीं।इसलिए जब अगली बार आप किसी को ‘कुत्ते-कमीने,तेरा खून पी जाऊँगा' कहकर कोसें,तो दस बार सोचें 

दैनिक भास्कर डीबी स्टार में 27/06/2014 को।

कोई टिप्पणी नहीं: