पृष्ठ

रविवार, 28 मार्च 2021

मनुष्यों का आधुनिक मुक्तिमार्ग !

देवलोक और असुरलोक के सभी निवासी बड़ी चिंता में थे।देवासुर संग्रामहुए बहुत दिन हो गए थे।दोनों लोकों से किसी भी तरह के अप्रिय समाचार की कोई सूचना नहीं थी।देवर्षि नारद मन में यह विचार करने लगे कि आगे चलकर कहीं यहशांतिबड़ा ख़तरा बन जाए ! सृष्टि की बुनियाद भी हिल सकती है।इस अभूतपूर्वशांतिसे दोनों पक्षों कीयुद्ध-गुणवत्तातो प्रभावित हो ही रही है साथ ही सुरों और असुरों की मौलिक पहचान भी ख़तरे में पड़ सकती है।उधर भूलोक में बड़े पैमाने परखेलाहो रहा है और इधर हमसे छोटा-मोटासंग्रामभीमैनेजनहीं हो पा रहा है।इससे बड़ा ग़लत संदेश जा रहा है।ऐसा ही चलता रहा तो लोग सुरों को पूजना और असुरों को धिक्कारना भूल जाएँगे।


नारद जी की यह चिंता लगातार बढ़ती जा रही थी।अंततः उन्होंने निश्चय किया कि उनकी वास्तविक भूमिका निभाने का अवसर गया है।वे तुरंत देवलोक के लिए चल पड़े।अगले ही पल वे सुरपति की सभा में थे।नारद जी को अचानक आया देखकर देवेंद्र के मन में तनिक खटका हुआ।मुनिवर को समुचित आसन देकर उनसे आने का कारण पूछा।नारद जी बेहद चिंतित स्वर में बोले, ‘भूलोक से बहुत डराने वाली खबरें रही हैं।जबसेदेवासुर-संग्रामठहर गया है,इसके दुष्परिणाम सामने आने लगे हैं।मनुष्यों ने नए नायक और खलनायक खोज लिए हैं।न्यूज़-चैनलनाम के  नए हथियारों नेड्रॉइंग-रूमकोयुद्ध-भूमिमें बदल दिया है।वे दैनिक रूप सेकर्णभेदीप्रहार कर रहे हैं।अपनी मुक्ति के लिए मनुष्य अब सुरों और असुरों पर निर्भर नहीं रहा।सबके अपने-अपनेईश्वर’,‘राक्षसऔरऐंकरहैं।इसके चलते देवलोक और असुरलोक में बेरोज़गारी का संकट उत्पन्न हो गया है।इसका जल्द समाधान हुआ तो मामला हाथ से बिलकुल निकल जाएगा।’ 


मुनिवर की ऐसी गंभीर बातें सुनकर देवेंद्र के माथे पर चिंता की लकीरें खिंच गईं।उन्हें अपना सिंहासन हिलता हुआ दिखाई देने लगा।कुछ देर सोचते हुए वे बोले, ‘संकट वास्तव में गहरा है।मानव तो मानव,अब दानव तक वरदान नहीं माँग रहे हैं।तपस्या करनी ही बंद कर दी है।इसके लिए हम सबको कृपानिधान जगदीश्वर के पास जाना पड़ेगा।वही कुछ कर सकते हैं।यह कहकर वे दोनों क्षीरसागर की ओर रवाना हो गए।


प्रवेश-द्वार पर पहुँचते ही नागराज मिल गए।उन्हें देखते ही बोल पड़े, ‘आप दोनों की ही प्रतीक्षा थी।लगता है ,अब यहाँ भीखेला होबे’ ! प्रभु सेहोली-मिलनकरने राक्षसराज भी आए हुए हैं।आप लोग मेरे साथ आइए।इतना कहकर नागराज उन्हें सीधे प्रभु केयुद्ध-कक्षमें ले गए।


देवराज कुछ कहने ही वाले थे कि प्रभु ने उन्हें चुप रहने का संकेत किया।बोले,‘ देवेंद्र,मुझे सब पता है।राक्षसराज के साथ हम इसी नए संकट पर चर्चारत हैं।हमने एकअसुर दूतको भूलोक भेज दिया है।यह कहकर प्रभु ने भूलोक पहुँचेअसुर-दूतकोवॉट्स-अप कॉललगा दी।यह देखकर देवेंद्र और देवर्षि दोनों चौंक उठे।देवेंद्र ने पास में खड़े नागराज से इस अद्भुत यंत्र के बारे में पूछा।उन्होंने बताया कि पिछले दिनों राक्षसराज ने संपूर्ण भूलोक कासर्वरहैक कर लिया था,तभी उन्हें इस अजूबे यंत्र का पता चला।उन्होंने किसी तरह से एकजीवात्माकीप्राइवेसी सेटिंगभंग की,तब जाकर यह हाथ लगा है।प्रभु इसी के ज़रिए दूत से संपर्क साध रहे हैं।


तभी उससे संपर्क जुड़ गया।उसकी वर्तमान लोकेशनसोनार बांग्लादिख रही थी।किसी चुनावी-रैली का दृश्य था।मनुष्यों की भारी भीड़ जमा थी।प्रभु ने दूत को संकेत किया कि शोर-शराबे से बाहर आकर उन्हें शीघ्ररिपोर्टभेजे।दूत पूरे जोश में बोलने लगा-यह आर्यावर्त का ऐसा क्षेत्र है जोचुनाव-ग्रस्तहै।यहाँ होली और चुनाव एक साथ गए हैं।एकसंग्रामकी कौन कहे,यहाँ तो कई चरणों मेंसंग्रामहो रहा है।लोग होली जैसे मिलन-पर्व में भी पर्याप्त ढंग से संघर्षरत हैं।किसीवायरल-मैसेजपरखेलाहो जाता है।बनावटी रंगों के बजाय वे एक-दूसरे का रक्त बहाकर मौलिक रंगों से ही होली खेल रहे हैं।एकबहुरूपिया वायरसराक्षस के भेष में घुस गया है।लोग उससे भी खूब घुल-मिल रहे हैं।यहाँ आकर मुझे एक और अनुभव हुआ है कि संपूर्ण आर्यावर्त में सड़क,संसद और विधानसभाओं मेंसंग्रामहोने की कदम-कदम पर भीषण संभावनाएँ हैं।मेरे लिए भी भरपूर मौक़े हैं।राक्षसराज,मुझे क्षमा करना।असुर-लोक में निरर्थक जीवन बिताने से अच्छा है कि में यहीं बस जाऊँ।

इतना सुनते ही राक्षसराज मिमियाए-प्रभु ! इस दूत का वीसा तुरंत रद्द किया जाए अन्यथा यह हमारी कुल-परंपरा को बहुत नुक़सान पहुँचाएगा।मानवों ने हम दानवों का पहले भी बहुत अहित किया है।पहले तो हमारे सारे गुण-धर्म अपना लिए अब हमारे साथी भी ले लेंगे तो हम कहाँ जाएँगे प्रभु ?


प्रभु बोले, ‘चिंता की कोई बात नहीं राक्षसराज ! यह दूत भले तुम्हारे नेटवर्क से बाहर चला गया है पर काम तुम्हारा ही करेगा।और हाँ,प्रसन्नता की बात यह है किदेवासुर संग्रामअभी रुका नहीं है।बस,भूलोक में शिफ़्ट हो गया है।हमें अवतार भी नहीं लेना पड़ेगा।मुक्ति के मामले में मानव अब आत्म-निर्भर हो चुका है।


संतोष त्रिवेदी


रविवार, 28 फ़रवरी 2021

आत्मा का उन्नत संस्करण !

एक होती है आत्मा और दूसरी अंतरात्मा।हम जैसे साधारण लोगों के पास सिर्फ़ आत्मा होती है।जो थोड़ा पहुँचे हुए होते हैं,उनके पासअंतरात्माहोती है।यह आम-जन के लिए क़तई सुलभ नहीं है।इसकी पहचान भी सबको नहीं होती।जैसे हिरन को अपनी कस्तूरी का पता नहीं होता,वो उसकी खोज में भटकता रहता है,वैसे हीअंतरात्माको धारण करने वाला इससे बिलकुल अनजान रहता है।सदियों से सोई आत्मा अचानकअंतरात्माबन जाती है।जिस प्रकार हर साँप में मणि पैदा करने की कूबत नहीं होती,उसी तरह हर मनुष्य मेंअंतरात्मानहीं होती।जब यह कहीं प्रकट होती है तो चीख-चीखकरअलार्मबजाने लगती है।प्राणी बेचारा बेबस होकर उसकी आवाज़ सुनने को मजबूर हो जाता है।गौर करने वाली बात तो यह है कि उसके आवाज़ सुनने का समय बिलकुल सटीक होता है।इससेअंतरात्मा-जीवीको अपना लक्ष्य साधने में कोई मुश्किल नहीं होती।


ऐसी आत्माएँ दूरदर्शी तो होती ही हैं,इनकी घ्राण-शक्ति भी बहुत तीव्र होती है।आते हुए ख़तरे को ये ऐन मौक़े पर पहचान लेती हैं।इससे सिर्फ़ ये हमेशा सुरक्षित रहती हैं बल्कि लोकतंत्र भी ख़तरे से बाहर हो जाता है।ये कबीरदास के दर्शनसार-सार को गहि रहे,थोथा देइ उड़ायसे प्रेरित होकर केवल फ़ायदा ग्रहण करती हैं।नुक़सान तो इनके पास भी नहीं फटकता।साथ ही ये किसी नैतिकता-फैतिकता के अपराध-बोध से एकदम परे होती हैं।ये इतनी सिद्धांत-प्रूफ़ होती हैं कि कोई भी निष्ठा इनकीविकास-यात्रामें अड़ंगी नहीं डाल सकती।


ऐसी ही एक दुर्लभ अंतरात्मा से कल शाम टकरा गया।वह बड़ी तेज़ी सेराजपथकी ओर भागी जा रही थी।हमने केवल इतना भर कहा कि ज़रा देख कर चला करिए।बीच में सरकार भी खड़ी है।आजकल बड़ी सतर्क है।कहीं कोईटूलकिटबिखर गई तो बाहरी छोड़िए,अंदरूनी तार भी स्थायी रूप से हिल जाएँगे।मेरी बात सुनते ही वह पास की बेंच पर जीडीपी की तरह धम्म से बैठ गई।


पहले तो उसने मुझे भर नज़र देखा फिर मुझे भी बैठने का इशारा किया।छूटते ही बोली,‘दरअसल इन दिनों बंगाल की खाड़ी में ज़बर्दस्त दबाव बना हुआ है।तिनकों और घास-फूस की बात छोड़िए,बड़े-बड़े महल धराशायी हो रहे हैं।भयंकर तूफ़ान की आशंका है।इसलिए मैंने सोचा मिटने से बेहतर है,थोड़ा-सा गिर लिया जाए।और मेरागिरनाकोई आम गिरना नहीं है।सही बात तो यह है कि गिरने का कभी रत्ती भर ख़ौफ़ नहीं रहा मुझे।और आप जिसे अपनी नादानी सेगिरावटसमझ रहे हैं,दरअसल वो मेरी सहजगतिहै।मुझे जब भी अंदर की आवाज़ सुनाई देती है,रहा नहीं जाता।मैं हरदम यात्रा में रहती हूँ।सच बताऊँ,मैं केवल स्नेह की भूखी हूँ।जहाँ भी मिलता है,छककर खाती हूँ और आगे बढ़ जाती हूँ।ज़िंदगी में मुझे कभी किसी से मोह नहीं रहा।आपने मुझे टोककर ठीक नहीं किया।अंतरात्माएँ किसी के प्रति जवाबदेह नहीं होतीं।यह काम सामान्य जीवधारियों का है !’


उस अंतरात्मा का इतना आत्म-विश्वास देखकर मेरा हिल गया।पहली बार लगा कि कितनी नकारा आत्मा है मेरे पास ! फिर तनिक सकुचाते हुए अपनी आत्मा पर पड़े बोझ को थोड़ा दूर किया और पूछ बैठा, ‘आत्मा से अंतरात्माहोने तक का आपका यह सफ़र कैसा रहा ? कभीरिपेयर सेंटरजाने की ज़रूरत महसूस नहीं हुई ?’


उसने मुझे ऐसे देखा,मानो बरसों बाद कोई बुद्धिजीवी देख लिया हो ! कहने लगी, ‘आपने शायद किताबों से ज़्यादावाट्स-अपकी लीक हुई कोई चैट पढ़ ली है।आधुनिक अंतरात्माएँ पूरी तरह अपग्रेड हो चुकी हैं।ये आम आत्माओं की तरह भूखी मरती हैं और ही बेरोज़गार रहती हैं।जिन आत्माओं केअजर-अमरहोने की बात गीता में कही गई है,वो दरअसल हम जैसीसुपर आत्माओंके बारे में ही है।इन्हें ऐसी दिव्य शक्तियाँ प्राप्त हैं कि ये आत्म-जीवी और परजीवी में भेद नहीं मानतीं।इनकी उपस्थिति दल और व्यक्ति-निष्ठा जैसे पारंपरिक बंधनों से मुक्त होती है।ये निर्बाध रूप से यत्र-तत्र-सर्वत्र विचरण करती हैं।जब कोई अंतरात्मा अपनी आवाज़ सुनती है,उस वक्त ख़ुद की भी नहीं सुनती।इन्हें किसी भी प्रकार की शारीरिक,मानसिक या नैतिक चोट नहीं लगती।इसलिए हमें किसीरिपेयर सेंटरमें जाने की ज़रूरत नहीं होती।


तो क्यागतिके मामले में आप तेल को भी मात करने वाली हैं ?’ मैंने एक बेहद मासूम सवाल पूछ डाला।अबकी बारअंतरात्माने ज़ोर का ठहाका लगाया।विमर्श का निचोड़ बताते हुए बोली, ‘आप किस नश्वर संसार की बातें करते हैं ? तेल आज है,कल नहीं रहेगा।नसीब से मिलने वाली वस्तु जितनी जल्दी चली जाए,ठीक रहता है।मनुष्य तभी आत्म-निर्भर बनेगा।मैं कब की हो चुकी हूँ।इसीलिए कभी चूकती नहीं।आप केवल तेल मत देखो,उसकी धार देखो ! अंतरराष्ट्रीय समस्याएँ ड्रॉइंग रूम की बहसों,सोशल मीडिया की दीवारों पर थूकने से हल नहीं होतीं।हमें देश की छवि सही रखनी है तो सत्ता-पक्ष की नज़र से चीजों को देखना चाहिए।देश में इस समय दो ही समस्याएँ हैं।पहली विपक्ष,दूसरी बुद्धिजीवी।मुश्किल ये है कि इनके पासअंतरात्माभी नहीं है।इतना कहकर वह अचानक अदृश्य हो गई।


संतोष त्रिवेदी